चाणक्य के 40 संघर्षपूर्ण प्रेरणादायक विचार। Chanakya Thoughts in Hindi

आर्य चाणक्य भारतीय इतिहास मे एक महान ज्ञानी, राजनीति विशेषज्ञ, विद्वान, अर्थशास्त्र विशेषज्ञ, और कुटनीति विशेषज्ञ थे। Chanakya के विचार पूरे भारत वर्ष मे प्रसिद्ध है।

Arya Chanakya – (जन्म – अनुमानत: ईसापूर्व 375 – ईसापूर्व 283) आर्य चाणक्य अपने चाणक्य नीति के लिए पूरे भारत मे लोकप्रिय है।

इतिहास मे मगध राजा के दरबार मे किसी कारण से उनका अपमान हो जाने पर उन्होने नंद राजा के वंश का विनाश करने की शपथ ली थी।

नंद राजा के वंश का विनाश करके Chanakya ने मौर्य वंश की स्थापना कीई थी और अपने अखंड भारत के सपने को पूरा किया था।

Chanakya Thoughts

chanakya thoughts hindi
चाणक्य  के 40 प्रेरणादायक विचार। Chanakya Thoughts

किसी मूर्ख व्यक्ति के लिए किताबे उतनी ही महत्वपूर्ण है, जैसे की एक अंधे व्यक्ति के लिए आईना।

कोई काम शुरू करने से पहले खुद से ये तीन सवाल जरूर पूछो। मै ये काम क्यू कर रहा हु ? इस कार्य का परिणाम क्या होगा ? क्या इसमे मुझे सफलता मिलेगी ? अगर इन तीन सवालों के जवाब गहराई से सोचने पर मिल जाए, तभी आगे बढिए।

व्यकित अपने कर्म से बड़ा होता है, अपने जन्म से नहीं।

जैसे ही कोई संकट आपके करीब आए तो उस पर हमला करके उसे तुरंत नष्ट कर दो।

अपने मन की बात किसी को भी न बताए, जब तक आप उस कार्य को पूरा नहीं करते, तब तक उस बात को एक रहस्य बनाए रखे।

सेवक को तब परखे जब वो काम नहीं कर रहा हो। मित्र को संकट मे, रिश्तेदारोंकों कठिनाई मे, और पत्नी को घोर विपत्ति मे।

किसी भी मनुष्य की वर्तमान स्थिति को देखकर उसका मज़ाक मत उड़ाओ, क्योंकी काल मे इतनी शक्ति है, की वो एक कोयले के टुकडे को भी हीरे मे बदल सकता है। 

जंगल मे सीधे पेड़ को ही काटा जाता है। इसलिए जादा सीधा साधा स्वभाव भी कुछ काम का नहीं है।

सांप, दूसरों के कुत्ते, छोटे बच्चे, और मूर्ख इंसान को नींद मे से कभी नहीं उठाना चाहिए

जंगल मे अगर किसी कारणवश सूखे पेड़ को आग लग जाए तो वो सारे जंगल को आग लगा देता है। उसी प्रकार घर मे अगर एक मूर्ख पुत्र हो तो वो सारे घर को बर्बाद कर देता है।

फूलों की सुगंध केवल हवा की दिशा की ओर फैलती है, लेकिन एक अच्छे इंसान की अच्छाई सभी दिशाओ मे फैलती है।

हमे अपने भूतकाल के बारे मे या अपने भविष्य के बारे मे कभी चिंतित नहीं होना  चाहिए, विवेकवान व्यक्ति हमेशा वर्तमान मे जीते है।

जबतक तुम जीतने का साहस नहीं जुटाओगे। तब तक तुम्हें अपने प्रतिस्पर्धी को हराना असंभव होगा।

हर मित्रता के पीछे कोई न कोई स्वार्थ जरूर होता है। बिना स्वार्थ के मित्रता नहीं की जाती, ये एक कडवा सच है।

अगर किसी का स्वभाव अच्छा है, तो उसे किसी और गुण की कोई जरूरत नहीं।

जो व्यकित भविष्य के लिए तैयार है और किसी भी परिस्थिति से चतुराई निपटता है, वो इंसान सुखी हो जाता है।

एक ज्ञानी व्यक्ति हर जगह सम्मान पाता है।

शिक्षा दौलत और सुंदरता को भी परास्त कर देती है।

अगर सांप जहरीला ना हो तो भी उसे जहरीला दिखाना चाहिए नहीं तो उसे मार दिया जाएगा।

शेर से एक बात को सीखा जा सकता है, कौनसे भी कार्य को अपनी ताकत और प्रयास से हासिल करना।

मूर्खों से तारीफ सुनने से बुद्धिमान की डांट सुनना अधिक बेहतर होगा।

आलसी मनुष्य का वर्तमान और भविष्य नहीं होता।

इतिहास गवा है की जितना नुकसान हमे दुर्जनों की दुर्जनता से नहीं बल्कि ज्यादा नुकसान तो सजनों की निष्क्रियता से हुआ है।

कमजोर व्यक्ति से दुश्मनी बहुत खतरनाक हो सकती है, क्योंकी वह उस समय हमला कर सकता है जिस की आप कल्पना भी नहीं कर सकते।

भगवान मूर्तियो या मंदिरो मे नहीं है, भगवान हमारी अनुभूति मे विराजमान है। हमारी आत्मा ही भगवान का मंदिर है।

असंभव शब्द का प्रयोग तो केवल कायर करते है। बुद्धिमान और ज्ञानी इंसान अपना रास्ता खुद चुनते है।

दूसरों की गलतियों से सीखो अपनी गलती से सीखने के लिए तुम्हारी उम्र कम पड जाएगी।

अगर आपको लोगोंकी जरूरत नहीं है, तो लोगों को भी आपकी जरूरत नहीं है।

मूर्ख लोगों के साथ वाद विवाद करके अपना कीमती समय ना बर्बाद करे।

बुद्धि से पैसा कमाया जा सकता है लेकिन पैसों से बुद्धि नहीं कमाई जा सकती।

सांप के दात मे, बिच्छू के डंक मे, मक्खी के सर मे, और मनुष्य के मन मे जहर होता है।

मनुष्य अपने कर्मो के कारण ही जीवन मे दुख पाता है।

नकारात्मक सोच हमेशा बुरी होती है। क्योंकी ये एक ऐसी बीमारी है, जो अपने आस पास सब मे निराशावादी सोच फैला देती है। इसलिए इंसान को हमेशा सकारात्मक सोच रखनी चाहिए।

इस बात को किसीसे मत बताओ, की आपने क्या करने का सोचा है, बुद्धिमानी से इसे रहस्य बनाए रखे। और इस काम को करने के लिए

इंसान को ऐसी तीन जगह पर नहीं रहना चाहिए, जहापर काम धंधे की कोई व्यवस्था ना हो, जहापर बीमार पडने पर दवा ना मिले, जहापर शिक्षा की कोई व्यवस्था ना हो।

जिस घर का पुत्र अपने माता पिता की बात को मानता है, और जिस घर की पत्नी पतिव्रता होती है, उस घर को जीते जी स्वर्गसुख मिल जाता है।

जिस घर मे मूर्ख लोगों का सम्मान किया जाता है। जिस घर मे ज्ञानी इंसान को कोई महत्व नहीं दिया जाता। उस घर मे कभी भी सुख शांति नहीं रहती।

काल की गति को कोई रोख नहीं सकता काल की गति को जिसने पहचान लिया उसका जीवन सफल हो गया।

Note: अगर आपको Chanakya के विचार पसंद आते है तो Chanakya Thoughts in Hindi को Facebook और Whatsapp पर जरूर share कीजिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *