दलाई लामा के जीवनपर आधारित प्रेरक विचार। Dalai Lama Thoughts in Hindi

विश्व मे बौद्ध धर्म का प्रचार करने वाले बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा का जन्म 6 जुलाई 1935, तिब्बत मे हुआ था। Dalai Lama तिब्बत के 14 वे आध्यात्मिक धर्म गुरु है। शांति के क्षेत्र मे काम करते हुये उन्हे 10 दिसंबर, 1989 मे नोबेल शांति पुरुस्कार से सम्मानित किया है।

Dalai Lama

dalai lama thoughts hindi
दलाई लामा के महान विचार। Dalai Lama Thoughts

दूसरों को सुखी देखना चाहते हो तो करुणा का अभ्यास करो, और अगर खुद को भी सुखी बनाना चाहते हो तो करुणा का अभ्यास करो।

करुणा और प्रेम की हमे जरूरत है, सुख चैन कि नहीं। बिना करुणा और प्रेम के मानवता जीवित नहीं रह सकती।

मेरा धर्म बहुत ही सरल है, करुणा ही मेरा धर्म है।

हमे मंदिरो मे जाने कि आवश्यकता नहीं है, ना ही उलझे हुए तत्वज्ञान कि, हमारा मन और हमारा दिल ही हमारा मंदिर है।

नींद ही हमारी सबसे अच्छी समाधि है।

सहनशीलता के अभ्यास मे शत्रु ही हमारा सबसे अच्छा शिक्षक है।

धर्म और ध्यान के बिना हम जीवित रह सकते है लेकिन मानव के प्रेम के बिना हम जीवित नहीं रह सकते है।

हमारे जीवन का उद्देश्य केवल सुखी रहना है।

जबतक हम अपने साथ शांति नहीं बना सकते तबतक हम बाहरी दुनिया से शांति प्राप्त कर नहीं सकते।

हमारे जीवन का मुख्य उद्देश्य लोगों कि सहायता करना है, अगर तुम लोगों कि सहायता नहीं कर सकते तो कम से कम उन्हे तकलीफ तो मत दो।

मै खुद का वर्णन एक सीधे साधे बौद्ध भिक्षु के रूप मे करता हु, ना ज्यादा ना कम।

नैतिक नियमों के कमी कारण मानव जीवन बेकार बन गया है। नैतिक नियम और सत्य मानव जीवन के लिए बहोत महत्वपूर्ण है। अगर हम इसे खो देते है, तो हमारा कोई भविष्य नहीं है।

मै खुद को लोगों के लिए एक स्वतंत्र प्रतिनिधि के रूप मे मानता हु।

 प्रौद्योगिकी ने वास्तव में मानव कि क्षमता को बढ़ाया है, लेकिन प्रौद्योगिकी मानव करुणा का निर्माण नहीं कर सकती।

जितना हो सके उतना दयालु बने रहे क्योंकि दयालु रहना हर समय संभव होता है।

एक अनुशासित दिमाग आपको हमेशा खुशिया दे सकता है और एक अनुशासनहिन दिमाग आपको हमेशा दुख ही देता है।

मेरा उद्देश्य बेहतर समाज का निर्माण करना है।

खुशिया तो पहले से ही निर्मित नहीं होती, खुशिया तो तुम्हारे कर्मो से मिलती है।

अपनी क्षमता और आत्मविश्वास कि प्राप्ति के साथ कोई भी बेहतर दुनिया का निर्माण कर सकता है।

दूसरों को मदद करना जरूरी है, ना केवल हमारी प्रार्थनाओं मे बल्कि हमारे नियमित जीवन मे भी।

सकारात्मक कार्य को आगे लेके जाने के लिए हमे सकारात्मक दृष्टि को विकसित करना होगा।

जहा अज्ञान हमारा मालिक है, वहा शांति कि कोई संभावना नहीं है।

एक शांत मन हमारी अंदरूनी शक्ति और आत्मविश्वास का निर्माण करती है। तो यह हमारे स्वास्थ के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

सभी भलाई कि जड़े प्रशंसा कि मिट्टी मे निहित है।

कभी कभी शांत रहना भी बेहतर होता है।

धर्म का मुख्य उद्देश्य करुणा, प्रेम, क्षमा और मानवता को सुविधाजनक बनाना है।

अपना ज्ञान शेयर करे यह एक अमरत्व प्राप्त करने का तरीका है।

हमारे जीवन का दुख हमारे अज्ञान से जन्म लेता है।

जितना आप प्रेम से प्रेरित हो जाओगे, उतने ही आप निडर बनोगे और आपका कार्य भी मुक्त होगा।

जब मनुष्य की शक्ति समस्याओं के आगे घुटने टेकती है, तो अध्यात्म ही उसे वो शक्ति और साहस देता है जिससे मनुष्य उन समस्याओं के साथ लड सके।

कभी हार मत मानो इससे फर्क नहीं पड़ता के क्या हो रहा है और आपके आस पास क्या चल रहा है।

अगर आपके मन मे शांति है तो कुछ भी तुम्हें अशांत नहीं कर सकता।

सुबह का सिर्फ एक सकारात्मक विचार तुम्हारे पूरे दिन को बदल सकता है।

अगर आप किसी अन्य चहरे से मुस्कान चाहते हो, तो आपको भी मुस्कुराना पडेगा।

आपकी मन की शांति का अंतिम विनाशक क्रोध है।

आशावादी रहो, इससे बेहतर महसूस होता है।

सुख का अंतिम स्रोत पैसा और ताकत नहीं है बल्कि हमारा बडा दिल है।

खुद को जीतना, हजारो लोगों को युद्ध मे जीतने से श्रेष्ठ है।

दूसरों के मन को बदलने का मार्ग प्रेम है, क्रोध नहीं।

एक सच्चा मित्र वही है जो तुम्हारे गलतियों को दर्शाता है।

एक सच्चा नायक वही है, जो खुद के क्रोध और नफरत पर विजय प्राप्त कर लेता है।

मै अपने दुश्मनों को तब पराजित करता हु जब मै उनको अपना मित्र बनाता हु।

जब आप बोलते हो तो आप वही दोहराते हो जो आपको मालूम होता है, लेकिन जब आप सुनते हो तो आप कुछ नया सीखते हो।

अगर आप शांति का अनुभव करने की आशा करते हो, तो दूसरों के लिए शांति प्रदान करो।

Note: अगर आपको Dalai Lama के विचार पसंद आते है तो Dalai Lama thoughts in Hindi को Facebook और Whatsapp पर जरूर share कीजिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *