बाल श्रम, बाल मजदूरी पर निबंध 2020। Essay On Child Labour In Hindi

Essay on child labour in Hindi with quotes, essay on child labour in Hindi 1000 words, essay on child labour in Hindi with headings, causes of child labour in Hindi language, essay on bal shram in Hindi for class 9, bal shram par nibandh Hindi mein, child labour in Hindi pdf, how to stop child labour in Hindi.

Essay On Child Labor In Hindi

प्रस्तावना :

बाल मजदूरी हमारे भारत देश की एक सबसे बड़ी समस्या है, बाल मजदूरी यह समस्या विश्वस्तर पर एक चिंता का विषय बन चुकी है। गरीबी के कारण, घर की आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण गरीब घर के बच्चों को कम उम्र मे मजदूरी करना पड रहा है।

बालमज़दूरी की समस्या दिन ब दिन बढ़ती चली जा रही है, बालमज़दूरी करने वाले बच्चों की संख्या देश मे बिहार, यूपी, छतीसगढ़, मध्यप्रदेश, उत्तराखंड, ओरिसा और झारखंड जैसे राज्यों मे बढ़ती चली जा रही है। बाल मजदूरी हमारे देश को लगा हुआ एक शाप है। बाल मजदूरी हमारे देश की एक कमजोरी है।

घर के हालात अच्छे न होने के कारण और शिक्षा का अभाव होने के कारण बच्चों के माता पिता अपने बच्चों को मजदूरी करने के लिए मजबूर कर रहे है और खुद बच्चे भी मजदूरी करने के लिए मजबूर हो रहे है। भारत देश मे ऐसे कई सारे परिवार है जहां तक शिक्षा पहुंची नहीं है और लोगों को शिक्षा का महत्व पता भी नहीं है।

शिक्षा के अभाव के कारण और गरीबी के कारण मजदूरी करके पेट पालना ही उनकी जरूरत बन चुकी है। जिस उम्र मे बच्चों को अपने माता पिता के प्यार की जरूरत है, छोटे दोस्तों की जरूरत होती है, शिक्षा की जरूरत होती है और अगर इसी उम्र मे बच्चे श्रम करेंगे तो यह हमारे लिए एक सबसे बड़ा पाप है, एक बड़ा शाप है।

यहां तक की पंछी भी अपने बच्चों के चोंच मे तबतक निवाला डालते है जबतक वे पूरी तरह से बड़े नहीं हो जाते और उनके पंख आकाश मे उड़ने के लायक नहीं बन जाते।

Essay On Child Labour In Hindi, बाल श्रम, बाल मजदूरी पर निबंध हिंदी मे

Essay On Child Labor In Hindi

नुकसान :

देश मे करोड़ों की संख्या मे बाल मजदूर कारखानों, ईट-भट्टों, छोटी मोठी दुकाने और होटलों पर मजदूरी करते दिखाई देते है। बाल मजदूरी करने वाले बालक उम्र मे 5 वर्ष से लेकर 14 वर्ष तक के बीच मे पाये जाते है। बाल श्रम यह एक सामाजिक संकट है जो एक चिंता का विषय बन चुका है।

बाल मजदूरी इंसानियत के नामपर एक शाप है, यह सामाजिक समस्या देश के विकास और वृद्धि मे एक बाधक बनता जा रहा है। जिस उम्र मे खेलना खुदना और पढ़ना होता है उसी उम्र मे अगर बच्चे अगर श्रम करेंगे तो उनका बौद्धिक, शारीरक विकास नहीं होता और सीमित रह जाता है।

यदि देश के बच्चे मानसिक और शारीरीक रूप से कमजोर हो जाएंगे, अनपढ़ रहेंगे तो हम आनेवाले भविष्य मे भारत देश को मजबूत होते हुए

कैसे देख सकते है। कैसे हम एक मजबूत और पढे लिखे युवाओं का निर्माण कर सकते है, कैसे हमारे देश को आगे ले जा सकते है क्योंकि आनेवाली पीढ़ी ही हमारे  देश का भविष्य है।

बाल श्रम जैसी समस्या बच्चों के भविष्य को नुकसान पहुंचा रही है जिससे बच्चों के भविष्य मे अंधेरा छा सकता है। हमे इस समस्या का समाधान ढूँढना चाहिए। बालमज़दूरी पर रोक लगाना चाहिए नहीं तो हमारे देश का भविष्य खतरे मे आ सकता है।

अगर देश का युवा शिक्षा से दूर रहेगा तो हमारे देश की उन्नति कैसी होगी और हम एक कुशल जन शक्ति का कुशल युवाओं का निर्माण कैसे कर सकते है।

बाल श्रम, बाल मजदूरी पर निबंध हिंदी मे

Essay On Child Labour In Hindi, बाल श्रम, बाल मजदूरी पर निबंध हिंदी मे

Essay On Child Labor In Hindi

अधिक पढे:

शिक्षा पर 34 Latest सर्वश्रेष्ठ नारे

जल संरक्षण पर 21 सर्वश्रेष्ठ नारे

उपाय :

बालमज़दूरी, बाल श्रम को रोखने के लिए भारत सरकार ने कई सारे कानून बनाए है, पर बालमज़दूरी, बाल श्रम को रोखने मे सरकार पूरी तरह से कामयाब नहीं हो पा रही है। बालमज़दूरी, बाल श्रम को रोखने के लिए और सकत से सकत कानून बनाना आवश्यक है, और उसे जितना जल्दी हो सके उतना जल्दी कार्यान्वित करना चाहिए।

देश मे गरीब परिवार के जीवनमान मे सुधार लाने के लिए कई सारे नई योजनाओ का प्रारंभ कर देना चाहिए ताकि कोई भी परिवार अपने बच्चों को शिक्षा से दूर ना रखे और बच्चों को मज़दूरी करने के लिए मजबूर ना कर सके।

बाल मजदूरी को रोकने के लिए बाल मजदूरी के प्रति लोगों को जागरूक करना, लोगों को शिक्षा का महत्व समझाना, बाल मजदूरी से अपने देश का होने वाला नुकसान इसके प्रति लोगों को जागरूक करना देश के हर नागरिक की ज़िम्मेदारी है।

देश के हर माता पिता का यह कर्तव्य बनता है की वे बच्चों को स्कूल भेजे उनकी अच्छी तरह से परवरिश करे चाहे फिर वो बेटी हो या बेटा हो। माता पिता को बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास पर ध्यान देना चाहिए और बच्चों को पढ़ा लिखाकर अपने पैरो पर खड़ा होने के काबिल बनाना चाहिए। बच्चों के माता पिता का एक मजबूत भारत राष्ट्र बनाने मे एक महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है।

Note: अगर आपको Essay On Child Labour In Hindi यह निबंध हेल्पफूल लगता है तो Essay On Child Labour In Hindi इस निबंध को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेअर करे।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *