आइजक न्यूटन का जीवन परिचय। Isaac Newton biography in Hindi

Isaac Newton biography in Hindi. विश्व के सबसे बुद्धिमान व्यक्ति, गणितज्ञ, खगोलविद और भौतिक विज्ञानी,जिन्होंने अपने सोच के दम पर दुनिया को कई वैज्ञानिक सिद्धांत दिये।

आइजक न्यूटन ने पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण शक्ति को खोज निकाला। और दुनिया को गुरुत्वाकर्षण शक्ति से अवगत कराया। Isaac Newton ने ये साबित किया के जमीन के अंदर एक ऐसी शक्ति है, जो हर चीज को अपनी तरफ खिचती है।

Isaac Newton biography in Hindi

जन्म – क्रिसमस के दिन, 25 दिसंबर, 1642

जन्मस्थान – वुल्सथोरपे मेनर, लिंकनशायर, इंग्लंड

माता – हन्ना ऐस्कफ (Hannah Ayscough)

मृत्यु – 20 मार्च, 1727

न्यूटन का प्रारंभिक जीवन – Isaac Newton’s Early Life

सर आइजक न्यूटन का जन्म एक सामान्य घर मे हुआ था। जब उनका जन्म हुआ तब उनका शरीर बहुत ही कमजोर था। उनकी माँ को यह लगता था कि, ये बच्चा अभी जीवित रहेगा या नहीं। उनके जन्म से तीन महीने पहले ही उनके पिता की मृत्यु हो गई थी।

जब वे दो साल के थे तब उनकी माँ ने दूसरी शादी की थी। न्यूटन अपने सौतेले पिता को पसंद नहीं करते थे। माँ की दूसरी शादी के कारण Isaac newton अपनी माँ से नाराज थे। उनके  माँ की दूसरी शादी होने के बाद उनकी माँ ने न्यूटन को न्यूटन के दादा दादी के पास भेज दिया था।

वे  बचपन से ही हमेशा किसी ना किसी काम मे व्यस्त रहते थे। जब वो छोटे थे तब उन्होने  पानी पे चलनेवाली घडी बनाई थी। और घर मे लकड़ी की विभिन्न प्रतिमाए बनाते थे। न्यूटन की माँ ये सब देखकर हैरान हो जाती थी।

शिक्षा – Isaac Newton’s education

आइजक न्यूटन जब 12 साल के थे, तब उनकी माँ ने उनकी प्रारंभिक शिक्षा के लिए उनका प्रवेश  द किंग्स स्कूल ग्रांथम (The King’s School Grantham) मे करवाया, और वो स्कूल जाने लगे। पढ़ाई मे Isaac newton बहुत ही कमजोर थे, स्कूल मे छात्रों के साथ उनके अच्छे संबंध नहीं थे।

पढाई मे कमजोर होने के कारण और स्कूल मे एक छात्र के साथ झगड़ा होने के कारण उन्हे स्कूल से  निकाल दिया गया था। और उसी दौरान उनके सौतेले पिता की भी मृत्यु हो गई, और Isaac Newton फिरसे अपनी माँ के साथ रहने लगे।

उस समय घर मे इंकम का कोई स्रोत ना होने के कारण उनकी माँ ने उन्हे खेती करने को कहा, लेकिन न्यूटन खेती से नफरत करते थे। उन्हे खेती करना पसंद नहीं था। द किंग्स स्कूल के प्रधान अध्यापक हेनरी स्टोक्स ने न्यूटन की माँ को न्यूटन को उनकी पढाई पूरी करने के लिए फिरसे स्कूल भेजने को कहा, और उनके कहने पर उनकी माँ ने उन्हे फिरसे स्कूल भेज दिया।

और इस समय न्यूटन उस छात्र से बदला लेने की इच्छा से प्रेरित होकर पूरे मन के साथ पढाई करने लगे, और बहुत ही जल्दी स्कूल के टॉपर छात्रों की लिस्ट मे आए थे।

जून 1961 मे उन्होने ट्रिनिटी कॉलेज, कैम्ब्रिज मे प्रवेश लिया। आइजक ब्यूरो उनके अध्यापक थे। आइजक ब्यूरो ने न्यूटन की बुद्धिमता को पहचान लिया था, वो न्यूटन की मदद किया कर थे। और न्यूटन को प्रेरित किया करते थे।

सन 1665 मे न्यूटन ने केम्ब्रिज यूनिवरसिटि से गणित विषय मे डिग्री हासिल की। उसी दौरान लंडन मे प्लेग की भीषण महामारी आई थी और प्लेग की भीषण महामारी से  बचने के लिए सारे विश्व विद्यालयोंको बंद किया जा रहा था।

केम्ब्रिज यूनिवरसिटि बंद हो जाने के बाद Isaac Newton अपने घर अपनी माँ के पास चले गए।करीब दो साल तक केम्ब्रिज यूनिवरसिटि को बंद किया गया था। उसी दौरान Isaac Newton ने अपने घरपर  कलन, निजी अध्ययन, प्रकाशिकी और गुरुत्वाकर्षण के नियमों पर सिद्धांतों  का  विकास किया था।

गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत Isaac Newton’s Law of Gravity 

प्लेग की भीषण महामारी के कारण विश्व विद्यालय बंद होने के बाद Isaac Newton अपने घर चले गए थे। और उसी दिनो मे, एक दिन न्यूटन बगीचे मे एक सेफ के पेड़ के नीचे बैठे थे, और अपने मन मे धरती और चंद्रमा के बारे मे अपना अनुमान लगा रहे थे।

अचानक पेड़ से एक सेफ उनके सर पर आकर गिर गया। सेफ पेड़ से नीचे गिरने पर वो सोचने लगे कि ये सेफ नीचे ही क्यू गिर गया, ये सेफ ऊपर भी तो जा सकता था। और इसी विचार से वो परेशान रहने लगे।

कई सालो बाद इस घटना पर रिसर्च करने के बाद उन्होने एक ऐसे विज्ञान की खोज को जन्म दिया कि, इस विज्ञान की खोज ने पूरी दुनिया को बदल दिया। इस घटना पर रिसर्च करने के बाद Isaac Newton ने  ये साबित कर दिया के पृथ्वी के पास एक ऐसी गुरुत्वाकर्षण  की शक्ति है जो हर चीज को अपनी तरफ खिचती है।

और पृथ्वी से दूर जाने पर ये शक्ति घटती जाती है। इसी गुरुत्वाकर्षण की शक्ति के कारण चंद्रमा पृथ्वी का चक्कर लगाता है, और पृथ्वी सूर्य का।

गति के तीन नियम Isaac newton’s Law of Motion

Isaac Newton ने गति के तीन नियमों कों खोज निकाला 1) जडत्व का नियम, 2) संवेग का नियम, 3) क्रिया प्रतिक्रिया का नियम, जिनके आधारपर आज भी एक साइकल से लेकर हवाई जहाज बनाने तक इन  नियमों का उपयोग किया जाता है।

एक सामान्य परिवार मे जन्म लेकर Isaac Newton ने अपनी वैज्ञानिक खोज से इस दुनिया को एक नई दिशा दी। और इस दुनिया को ही बदल दिया। ये माना जाता है के आइजक न्यूटन आजन्म अविवाहित रहे थे। सन 20 मार्च 1727 मे सोते समय Isaac Newton की मृत्यु हो गई थी।

Note: If you find this article “Isaac Newton biography in Hindi” helpful then don’t forget to share “Isaac Newton biography in Hindi” on WhatsApp and Facebook.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *