संत गाडगे बाबा 20 अनमोल विचार। Sant Gadge Baba Thoughts in Hindi

Sant Gadge Baba Thoughts/Sant Gadge Baba Quotes मानवता के उद्धारक संत गाडगे बाबा का जन्म महाराष्ट्र के अकोला जिले मे खासपुर(शेगांव) गाँव के धोबी परिवार मे सन 23 फरवरी, 1876 को हुआ था। उनका पूरा नाम डेबूजी झिंगराजी जानोरकर था। Sant Gadge Baba Thoughts, संत गाडगे महाराज एक ऐसे महान समाज सुधारक थे, जिन्होंने उम्रभर गरीब, कमजोर, दुखी और निराश लोगों की सहायता की। वे गरीब, कमजोर लोगों को न्याय देने के लिए और उनकी सहायता के लिए गाँव गाँव भटकते रहे।

संत गाडगे बाबा ने अपने जीवन मे स्वच्छता और शिक्षा को सबसे ज्यादा महत्व दिया था। उन्होंने अपने जीवन मे हमेशा मूर्तिपुजा और अंधश्रद्धा का जमकर विरोध किया। Sant Gadge Baba Thoughts, संत गाडगे बाबा कहते थे मेरे मरने के बाद मेरा अंतिम संस्कार कर देना और मेरे मरने के बाद मेरी मूर्ति, स्मारक, समाधि या मंदिर मत बनाना।

Sant Gadge Baba Thoughts

sant gadge baba thoughts

Sant Gadge Baba Thoughts

ज़िंदगी मे भावनाओं से ज्यादा हमारा कर्तव्य बड़ा होता है।

दुनिया को प्रेम से जीता जा सकता है, शत्रुता से नहीं।

सफलता को पाने के लिए, खुद के बनाए हुये, नियमों का पालन करना चाहिए।

हमारे मन मे एक आदर्श व्यक्ति का होना बहुत जरूरी है।

दया, करुणा, मानव कल्याण और परोपकार आदि गुणों का भंडार होना ही सच्चा धन है।

असमानता और अमानवीयता मानव जीवन के लिए हानिकारक है।

हमारे अच्छे शौक, हमे अपने जीवन पर प्रेम करना सिखाते है। 

मन मे फल की इच्छा रखकर अच्छा कर्म करना गलत है।

अगर पैसों की तंगी है, तो खाने के बर्तन बेच दो पर अपने बच्चों को शिक्षा बिना मत रखो।

मेरा कार्य ही मेरा सच्चा स्मारक है।

अंध, बीमार और विकलांग लोगों की सहायता मे अपना योगदान दो, और उनकी सहायता करो।

बेरोजगारों को काम और मुक प्राणियों को अभयदान दो।

संत गाडगे बाबा के अनमोल विचार

अगर आप अपने लिए जिएंगे तो आप मर जाएंगे और अगर आप खुद जिएंगे और दूसरों के लिए जिएंगे तो आप जिएंगे।

कभी भी ऐसा कर्म ना करे जिससे दूसरों को तकलीफ हो और वह दुखी हो जाए।

भूके को रोटी, प्यासे को पानी, वस्त्रहीन लोगों को कपड़ा और बेघर लोगों को आसरा देना ही ईश्वर सेवा है।

गरीब बच्चों की शिक्षा मे सहायता करो। गरीबों की उन्नति मे अपना योगदान दो।

गरीब, कमजोर, दुखी और निराश लोगों की मदद करना और उन्हे हिम्मत देना ही सच्चा धर्म है और ईश्वर भक्ति है।

मेरे मरने के बाद मेरी मूर्ति, स्मारक, समाधि या मंदिर मत बनाना।

जातीयता तोड़ने मे आपसी भाई चारे की संस्कृति विकसित करना आवश्यक है।

मांस खिलाना और शराब पिलाना ये कोई धर्म नहीं है।

कर्ज लेकर त्योहार मनाना, या कर्ज लेकर परंपराओ का पालन करना महापाप है।

इंसान को हमेशा सीधा-साधा जीवन बिताना चाहिए, शान शौकत इंसान को बर्बाद कर देती है।

Read more: रामदास स्वामी के जीवनपर आधारित 31 विचारगौतम बुद्ध के जीवन बदल देने वाले विचारस्वामी विवेकानंद के 40 विचारमहात्मा गांधी के 32 महान विचार

Note: If you like Sant Gadge Baba Thoughts in Hindi, please share Sant Gadge Baba Thoughts in Hindi on WhatsApp and Facebook.

Summary
Review Date
Reviewed Item
संत गाडगे बाबा 20 अनमोल विचार। Sant Gadge Baba Thoughts in Hindi
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *