विज्ञान वरदान या अभिशाप निबंध। Vigyan Vardan Ya Abhishap Essay in Hindi

vigyan vardan ya abhishap essay in Hindi 100 words,150 words, 250 words, 300 words. vigyan vardan ya abhishap par nibandh in Hindi.

विज्ञान ने मनुष्य जीवन मे कई सारे बदलाव लाये है। विज्ञान ने मनुष्य का जीवन परिपूर्ण बनाया है। विज्ञान ने पूरे विश्व मे अपने योगदान से एक नई क्रांति कर डाली है। कई साल पहले मनुष्य आकाश मे पंछी की तरह उड़ना, पानी मे मछली की तरह ठहलना, दूसरे ग्रहों पर जाना मनुष्य केवल कल्पनाए करता था लेकिन आज विज्ञान ने ही मनुष्य के सारे सपनों का साकार किया है।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर निबंध हिंदी में। Vigyan Vardan Ya Abhishap

vigyan vardan ya abhishap essay in hindi

विज्ञान ने मनुष्य को मानसिक स्वतंत्रता दी है, सही और गलत की पहचान करना सिखाया है, किसी भी कार्य के पीछे छुपे हुये कारण को अपने दिमाग पर ज़ोर देकर ढूँढने की क्षमता विज्ञान ही देता है। विज्ञान के आगे सभी मनुष्य एक समान है, कोई बड़ा या कोई छोटा नहीं है। विज्ञान की ताकत से हर समस्या का समाधान पाया जा सकता है।

यदि हम विज्ञान की ताकत को सही तरह से समझ जायेंगे। विज्ञान के युग मे कई सारे महत्वपूर्ण आविष्कार हुये है, जैसे बिजली का अविष्कार, हवाई जहाज का आविष्कार, अवकाश यान का आविष्कार, ड्रोन का आविष्कार, कंप्यूटर का आविष्कार, टेलिफ़ोन का आविष्कार, वाहनों का आविष्कार, दैनिक जीवन मे उपयोग मे ला जाने वाली इलैक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों का आविष्कार आदि। विज्ञान इन सारे आविष्कारों मनुष्य का समय, मैन पावर और श्रम बचाया है, और मनुष्य का जीवन सुखद और संपन्न बनाया है।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर निबंध हिंदी में। Vigyan Vardan Ya Abhishap

vigyan vardan ya abhishap essay in hindi

परिवहन के क्षेत्र मे, संचार के क्षेत्र मे विज्ञान ने अपनी सफलता दिखाई है। रेल्वे, हवाई जहाज, जैसे आविष्कारों से लंबी यात्रा आसान हो गई है। टेलिफ़ोन और कंप्यूटर की मदद से दूर दूर तक संदेश भेजना आसान हो गया है। आज विज्ञान के कारण ही सारा विश्व एक ही छत के नीचे आ गया है।

विज्ञान के बिना मनुष्य का जीवन कल्पना के बाहर है। विज्ञान मनुष्य के लिए वरदान है लेकिन यही विज्ञान सही उपयोग न हो जाने पर मनुष्य जीवन के लिए घातक साबित हो सकता है। विज्ञान की शक्ति जादा उपयोग मे लाने की वजह से आज पृथ्वी का प्रदूषण खराब हो चुका है, वैश्विक तापमान बढ़ चुका है, पहाड़ों के बर्फ पिघल रहे है जिसके कारण बाढ़ की समस्या उत्पन्न हो रही है।

ध्वनि प्रदूषण, वायु प्रदूषण जल प्रदूषण जैसी समस्यांए सभी प्राणियों का जीवन नष्ट कर रही है। हाइब्रिड अन्न के निर्माण से जानलेवा बीमारियाँ उत्पन्न हो रही है और मनुष्य की आयु घटती चली जा रही है।

आज का मनुष्य स्वार्थी हो चुका है अपने स्वार्थ के लिए विज्ञान की शक्ति का उपयोग विनाशकारी कार्यों के लिए कर रहा है। एक तरफ विज्ञान मनुष्य के लिए कल्याणकारी, उपयोगी साबित हुआ है, और दूसरी तरफ अभिशाप भी, विज्ञान एक शक्ति है जिसका उपयोग रचनात्मक कार्यों के लिए किया जा सकता है और विनाशकारी कार्यों के लिए भी किया जा सकता है।

विज्ञान मनुष्य के लिए तबतक वरदान है जबतक विज्ञान का उपयोग रचनात्मक कार्यों के लिए किया जा सके अभिशाप हो सकता है जब उसका उपयोग विनाशकारी कार्यों के लिए किया जा सके।

अधिक पढे:

वृक्ष पर अनुच्छेद हिंदी मे

टेलीविज़न पर निबंध हिंदी मे

मेरा स्कूल पर निबंध

Note: अगर आपको विज्ञान वरदान या अभिशाप पर निबंध हिंदी में, (Vigyan Vardan Ya Abhishap Essay in Hindi.) हेल्पफूल लगता है तो विज्ञान वरदान या अभिशाप पर निबंध हिंदी में (Vigyan Vardan Ya Abhishap Essay in Hindi.) अपने स्कूल मित्रों के साथ जरूर शेअर करे।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *