{बेस्ट शायरी} घर से दूर नौकरी शायरी, घर से दूर जाने की शायरी

घर से दूर नौकरी शायरी, घर से दूर जाने की शायरी।

घर से दूर रहने का गम बहुत होता है,
जब भी याद करता हूँ माँ बाप को तो दिल अक्सर रोता है।

Ghar se dur rahen ka gam bahut hai,
jab bhi yaad karta hun maa baap ko
to dil aksr roata hai.

{बेस्ट शायरी} घर से दूर नौकरी शायरी, घर से दूर जाने की शायरी
घर से दूर नौकरी शायरी, घर से दूर जाने की शायरी

घर से दूर नौकरी करके काफी कुछ सिख रहा हूँ,
माँ बाप के बिना ज़िंदगी कैसी होती है यह सिख रहा हूँ।

Ghar se dur noukari karke kafi
kuch sikh raha hun, maan baap ke
bina zidngi kaisi hoti hai yah sikh raha hun.

हर कोई रोता है जब वो अपने घर से दूर होता है।

Har koi rota hai
jab wo apne ghar se dur hota hai.

जब घर पर था तब तकिये के बिना सोने से कतराता था,
कोई आकर देखे मुझे अब शहर मे जहाँ जगह मिल जाती है वही सो जाता हूँ।

Jab ghar par tha tab takiye ke
bina sone se katrata tha,
koi aakr dekhe muze ab shahar me
janha jagah mil jati hai vahi so jata hun.

और पढे:

{56+खतरनाक} जोशीली शायरी | मोटिवेशनल शायरी फॉर स्टूडेंट्स 

घर से दूर नौकरी शायरी, घर से दूर जाने की शायरी
घर से दूर नौकरी शायरी, घर से दूर जाने की शायरी

खाने मे सौ नखरे करने वाले अब कुछ भी खाकर सो जाते है,
जो हर पल हसा करते थे वो अब हर पल याद मे रोते है।

Khane me sou nakhre karne wale
ab kuch bhi khakar so jate hai,
jo har pal hasa karte the wo ab har pal rote hai.

अपनों से दूर लड़के भी रोते है,
सिर्फ बेटियाँ ही नहीं जनाब बेटे भी घर छोड़ जाते है।

Apno se dur ladke bhi rote hai,
sirf betiyan hi nahi janab bête bhi ghr chode jate hai.

रोज अपने दोस्तों को गाली देनेवाले आज अपने बॉस की गालियाँ खा रहे है।

Roj apne doston ko gali denewale aaj
apne boss ki gaaliyan kha rahe hai.

पिता के डांट मे प्यार तो था पर यंहा हर किसी के डांट मे नफरत नजर आती है।

Pita ke dant me pyar to tha par ynah
har kisi ke dant me nafrat najr atati hai.

यंहा पैसों के लिए हर कोई बहन,
भाई माँ और बाप बनने को तैयार है पर अपनों के जैसा सच्चा प्यार करने वाला कोई नहीं है।

Yanha paiso ke liye har koi bahn bhai maa
our baap banana ko tayaar hai par apno ke
jaisa saccha pyar karne wala koi nahi hai.

घर से दूर नौकरी शायरी, घर से दूर जाने की शायरी

बड़ा घमंड था माँ बाप के पैसों पर,
दोस्ती यारी रिश्तों पर जब आया शहर खुद के पैरों पर खड़ा होने
तो पता चला कोई साथ नहीं अब मेरे सिवाय मेहनत के।

Bada ghamnd tha maa baap ke paison par
dosti yari riston par jab aaya shahar
khud ke pairon par khada hone to pata
chala koi sath nhi ab mere siway mehnat ke.

घर पर सौ ख्वाहिश रखने वाले अब शहर में
दो वक्त की रोटी मिल जाए तो भी खुश रहना पसंद करते हैं अब।

Ghar par sou khvyaish rakhane wale
ab shahar me do vkt ki roti mil jaye
to bhi khush rahana pasand karte hai ab.

पैसा कमाने की चाहत मे अब घर से अजनबी बन गए है,
शहर मे अपना घर बसाने के लिए अब अपनों से दूर हो गए है।

Paisa kamane ki chahat me ab ghar se
ajnabi ban gaye hai. Shahar me apna ghar
basane ke liye ab apno se dur ho gaye hai.

घर मे माँ के हाथ का खाना चंद मिनिटों मे मिल जाता था,
लेकिन अब शहर मे खाना वक्त पर कहाँ मिलता है, कभी कभी भूखे पेट सो जाना पड़ता है।

Ghar me maa ke haath ka khaana chand miniton me
mil jata tha. Ab shahar me khana vakt par kahna mil jata hai.
Kabhi kabhi bhukhe pet so jana padta hai.

जब शहर मे धन कमाने आया तो पता चला परिवार से बड़ा कोई धन नहीं।
जब अनजानों से सलाह लेनी चाही तो पता चला पिता से बड़ा कोई सलाहकार नहीं।

Jab shahar me dhan kamane aaya to pata chala
pariwar se bada koi dhan nahi.
Jab anjano se salah leni chahi to
pata chala pita se bada koi salahkar nahi.

सपनों से दूर हूँ पर मेहनत से दूर नहीं, घर से दूर हूँ पर अपनों से दूर नहीं।

Sapno se dur hun par mehnt se dur nahi,
ghar se dur hun par apno se dur nahi.

शौक था मुझे शहर के बड़े बड़े होटलों मे खाने का
लेकिन खाने का असली स्वाद तो मै अपने घर छोड़ आया हूँ।

Shouk tha muze shahar ke bade bade
hotlon me khane ka lekin khaane
ka asli swad to mai apne ghr me chod aaya hun.

घर से दूर आया हूँ अपनी पहचान बनाने के लिए पर उन्ही को भूल चुका हूँ
जिन्होंने मेरे सपने पूरे करने के लिए अपना सब कुछ त्याग दिया है।

Ghar se dur ayah un apni pahchan banana
ke liye par unhi ko bhul chukka hun jinhone
mere aspen pure karne ke liye apna sab kuch tyag diya hai.

मोहल्ले के कमीने यार, मोहल्ले की गलियाँ,
दिल मे बसने वाली फूलों की कलियाँ आज भी याद आती है,
याद मे उनकी सारी रात गुजर जाती है।

Mouhale ke kamine yar,
mohale ki galiyan,
dil me basane wali fulonki kaliyan aaj bhi yad ati hai,
yaad me uniki sari rat gujar jati hai.

if you like “घर से दूर नौकरी शायरी, घर से दूर जाने की शायरी” please share with your friends on social media.

Leave a Comment