{करारी शायरी 55+} भ्रष्ट नेताओं पर शायरी, झूठे नेता पर शायरी कविता

भ्रष्ट नेताओं पर शायरी, भ्रष्ट नेताओं पर कविता, झूठे नेता पर शायरी

भ्रष्ट नेताओं पर शायरी  झूठे नेता पर शायरी कविता

कमीशन खाकर नेता हुए मालामाल,
लग गई समाज की वाट और हुआ जनता का बुरा हाल।

भ्रष्ट नेताओं पर शायरी  झूठे नेता पर शायरी कविता
भ्रष्ट नेताओं पर शायरी, भ्रष्ट नेताओं पर कविता, झूठे नेता पर शायरी

अभी मुझे वोट दो,
और जब कोई सरकारी काम हो तो कुछ नोट दो।

भ्रष्ट नेताओं पर शायरी  झूठे नेता पर शायरी कविता

यदि देश को आगे बढ़ाना होगा
तो बेईमान नेता को कुर्सी से हटाना होगा।

भ्रष्ट नेताओं पर शायरी  झूठे नेता पर शायरी कविता
भ्रष्ट नेताओं पर शायरी, भ्रष्ट नेताओं पर कविता, झूठे नेता पर शायरी

अरे ओ भ्रष्ट नेता गरीबी हटाने की तू बात क्यू है करता,
चुनाव जीतने पर खुद जनता को भूख से है तरसाता और खुद मेवा है खाता।

आजकल के नेता वोट के लिए नोट बाँटते है,
चुनाव जीतने पर जनता को लूटते है।

बड़े आए उठाने जनता की जिम्मेदारी,
चुनाव के बाद जनता को ही बनाएंगे भिकारी।

अन्य पढे:

चुनौतियों पर शायरी, संघर्षमय जीवन पर शायरी

जनता का दिल जीतने वाली युवा नेता शायरी, चुनावी शायरी 

जातिवाद फैलाकर वोट क्यू गिनते हो,
जाती, धर्म के नाम पर दंगे क्यू करवाते हो,
अरे ओ भ्रष्ट नेता अब तो सुधर जाओ अपने देश को आगे ले जाओ।

आजकल के नेता भाषण मे लगाते है माँ बहन के नारे,
और बोतल के नशे चूर होकर रात को गिनते है सितारे।

चुनाव आते ही करते है हजारों वादे,
चुनाव जीतने पर बदल देते है अपने इरादे।

भ्रष्ट नेताओं पर शायरी कविता, झूठे नेता पर शायरी

अंदर से डाकू है पर ऊपर से खुद को जनसेवक कहलाते है,
जनता को मूर्ख बनाकर अपना पेट भरते है,
और जब जनता जाग जाती है तो गालियों का सामना करते है।

डाकू भी जेल से छूटते है नेताजी को खिलाने पर मेवा,
बिना किसी अपराध के गरीब का बेटा खाए जेल की हवा।

हारी बाजी जीत रहे है नोटों की करके बरसात,
चुनाव हार गए तो लोगों को दे रहे है डंडों का प्रसाद।

मै एक ईमानदार नेता हूँ,
रिश्वत के सिवा मै और कुछ नहीं खाता हूँ।

आजकल के नेता देशसेवा की खाते है कसम,
और बातों ही बातों मे अपने देश को ही करते है हजम।

आजकल के नेता पैसा देकर vote खरीदने का प्रयास करते है,
पर आजकल की जनता भी बहुत चालक हो गई है,
जिससे पैसा लेती है उसे vote तो बिल्कुल भी नहीं देती है।

आजकल के नेता गाँव के विकास की बात करते है,
ठेकेदारी प्रथा चलाकर खूब कमीशन खाते है,
किसान के गाय का चारा तो छोड़ो पर पशुओं को भी खा जाते हैं।

भ्रष्ट नेताओं पर शायरी, भ्रष्ट नेताओं पर कविता, झूठे नेता पर शायरी

आजकल दुनिया के हर कोने मे हर प्रदेश मे भ्रष्ट नेता पाए जाते है। जो जनता को विकास के नाम पर कई सारे वचन देकर वोट मांगते है, और चुनाव जीतने पर जनता से किए हुए वादे भूल जाते है। विकास की तो बात ही छोड़ो जो लोग चुनाव के समय उनके लिए दिन रात एक करते है उनको भी यह नेता लोग भूल जाते है।

नेताओं को बस एक बात पता है, ऊपर से कोई सरकारी काम आता है तो यह नेता लोग अपने परिजनों अपने मित्रों को सरकारी काम का ठेका देते है। अपने घर परिवार, रिश्तेदारोंका कल्याण करते है। सरकारी काम का ठेका देने के लिए लोगों से रिश्वत लेकर बहुत बड़ा कमीशन जमा करते है।

आज दुनिया के हर देश की, समाज की हालत केवल भ्रष्ट नेताओं के कारण हुई है। पॉलिटिक्स ने पूरे देश की हालत खराब कर डाली है। हर जगह देखो सिर्फ रिश्वत और भ्रष्टाचार दिखाई देता है। आजकल के नेता जाती धर्म के नाम पर वोट मांगते है, और जनता भी इतनी मूर्ख है की उन्हे यह भी पता नहीं है की जाती धर्म से अपना पेट नहीं भरनेवाला हमारा पेट अच्छी शिक्षा, अच्छा स्वास्थ्य, नियमित रोजगार पर निर्भर करता है।  

यह भ्रष्ट नेता जाती धर्म के नाम पर लोगों से वोट मांगती है, और समाज मे दंगा फसाद करवाती है। यह हमारे देश के विकास के लिए हानिकारक है। आपको पता है आज समाज का युवा वर्ग केवल इन नेताओं की दलाली करने मे व्यस्त है, और युवा वर्ग यह भूल गया है की अपने माता पिता के प्रति हमारा भी कुछ कर्तव्य है।

हमारे खुद के भी कुछ सपने है जो हमे पूरे करने है। मै इन लोगों को बस यह कहना चाहता हूँ के हमे एक पढे लिखे नेता की जरूरत है जो गरीबी को बहुत करीबी से जानता हो, जो जनता के लिए कुछ करने की इच्छा मन मे रखता हो हमे केवल ऐसे नेता को चुनना चाहिए और सिर्फ ऐसे नेताओं के पीछे खड़े रहना चाहिए।  

if you like “भ्रष्ट नेताओं पर शायरी, भ्रष्ट नेताओं पर कविता, झूठे नेता पर शायरी” please share with your friends on social media.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *