जनता का भरोसा जीतने वाली युवा नेता शायरी, चुनावी शायरी {बेहतरीन}

युवा नेता शायरी, चुनावी शायरी, युवा शक्ति और राजनीति शायरी, yuva neta shayari, chunav shayari.

युवा नेता शायरी:

युवा नेता शायरी, चुनावी शायरी

कमजोर है इरादे उनके, झूठे है वादे उनके,
अबकी बार युवा चुनो, विकास से पूरा गाँव चमके।

युवा नेता शायरी, चुनावी शायरी

गाँव को भ्रष्टाचार मुक्त बनाना है,
इस बार युवा सोच को आजमाना है।

युवा नेता शायरी, चुनावी शायरी

अबकी बार युवाओं की सरकार,
झुठे नेता अपना इस्तीफा दे इस बार।

अन्य पढे:

{55+आग लगानेवाली} चुनौतियों पर शायरी, संघर्षमय जीवन पर शायरी

{नसों मे जोश भरनेवाली 55+ चुनावी} युवा जोश पर शायरी

लहरेगी चारों तरफ हरियाली, होगा गाँव का नाम,
अबकी बार युवा नेता चुनो होगा सबका सम्मान।

राजनीति में कोई किसी का दुश्मन नहीं होता है,
यह सब दिखावे के लिए होता है,
अंत में आम इंसान को कुचल दिया जाता है।

चंद पैसों के खातिर तुम किसी अयोग्य व्यक्ति को वोट क्यों करते हो,
फिर बाद में अपने हक्क की सुविधा ना मिलने पर क्यू रोते हो।

अब किसी के सामने जनता को हाथ नहीं जोड़ने देंगे,
अपने हक की रोटी हम जरूर पा लेंगे,
बहुत किया झूठे वादोंपर विश्वास इस बार युवा आजमा कर देख लेंगे।

अब किसीपे भी अन्याय नहीं होने देंगे,
अपने गाँव के विकास मे जान लगा देंगे।

जब नेता करे कुर्सी से प्यार, तो निश्चित है जनता की हार।

नसीब सोच से बदलता है और गाँव का विकास नेता बदलने से होता है।

झूठे वादों से कहा पेट भरता है,
आजकल गाँव का हर एक युवा विकास चाहता है।

फरक तो देखो गाँव का युवा बेरोजगार है,
बुजुर्ग नेता के पास महंगी कार है।

वो हमारे सामने झगड़ने का नाटक करते है,
और शाम होते ही बड़े बड़े होटलों मे खाना खाते है।

देख तेरे गाँव की हालत क्या हो गई इंसान,
पैसों के लिए वोट दिया अब क्यू है परेशान।

चुनाव आने पर घर आकार हात जोड़ते हो,
जब मिले कही रस्ते पर तो कुत्ता समझकर हड हड़ करते हो।

गाँव मे नेता की कार चमकती है,
सड़कपर गरीब की बच्ची रोटी के लिए रोती है।

अब तो इस्तीफा दे दो, पूरा गाँव बेच डालो गे क्या!

हमने आपको वोट दिया फरिश्ता समझकर
और आपने हमे बेच दिया पालतू कुत्ता समझकर!

आज तक कोई विकास न हुआ है, हर कोई भूखा प्यासा सोया है,
बुजुर्गों के झूठे वादों से परेशान हर कोई रोया है।

डिग्री लेकर युवा बेचे समोसा बाजारों में अनपढ़ नेता दौरे पर है महंगी महंगी कारों में।

दो उसी का साथ जो करेगा देश का विकास।

आजकल वह लड़के भी युवा नेता बने घूम रहे हैं,
जिनके कहनेपर घर मे चाय तक नहीं बनती है।

आप अपनी उर्जा मुझे पीछे खींचने के लिए बर्बाद करो
और मैं अपनी ऊर्जा खुद को आगे बढ़ने में बर्बाद कर दूंगा।

अभी जिंदा है हौसला उड़ान बाकी है,
यह हवाओं का सिलसिला है तूफान बाकी है।

ए मुश्किलें अभी तो चलना सीखा है छलांग बाकी है असली मुकाम बाकी है

अगर सर पर आसमान वाले का हाथ है,
तो यह जमीन वाले हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकते।

चुनावी शायरी:

अपनी जेब तो हर कोई भरता है ऐसा नेता चुनो जो जनता के लिए कुछ करता है।

बचा ले जो हर तूफान से उसे “आस” कहते हैं
और जो निकला हो गरीबों का दुख दूर करने उन्हें हमारे आदरणीय ……जी कहते हैं।

यह कह के दिल ने मेरे हौसले बढ़ाए है,
जब तक साथ है ..जी का तब तक खुशी के साए हैं।

यदि समाज को आगे बढ़ाना है तो आदरणीय नेताजी को वोट देना जरूरी है।

उच्च नीच का भेदभाव नहीं,
देंगे सबको समान सुविधा और करेंगे सम्पूर्ण विकास गाँव का।

लोग उनके सर पर सत्ता का ताज रखते हैं,
जो लोगों की समस्याओं का हल निकालने के लिए दिन रात एक करते हैं।

ज़िंदगी के इस मोड पर आपके सारे सपने पूरे हो जाए,
सफलता आपके कदम चूमे।
चुनाव जीतने के लिए आपको हम सब की तरफ से हार्दिक शुभकामनाए।

यह माना कि जिंदगी की राह आसान नहीं
पर साथ हमारे आदरणीय …..नेताजी हो तो चलने में कोई नुकसान नहीं।

चुनाव हमारे लिए एक महासंग्राम होगा,
सबका का विकास ही हमारा अंतिम लक्ष्य होगा।

वो जो कहते थे कि हम करेंगे विकास पूरा चुनाव के बाद बदल गए देखते देखते।

चुनाव के समय किसी की जुबान पर कभी भरोसा मत करना
यह लोग धूप छांव की तरह बदलते रहते हैं।

पैसा लेकर वोट मत करना विकास को
खड्डे मे गाड़कर खुद का ईमान मत बेचना।

चुनाव के पहले नेताजी हजारों वादे करते हैं,
चुनाव के बाद न जाने कहां गायब हो जाते है।

युवा नेता शायरी चुनावी शायरी

चुनाव भाषण के लिए कुछ वाकये:

समाज का विकास समाज ने किस व्यक्ति को चुना है इसपर निर्भर करता है।

सबसे पहले हमारे उच्चतम आदर्श सत्य शिव सुंदर से प्रेरित
भारतीय लोकतंत्र की इस पावन मंच से आप सभी का हार्दिक अभिनंदन करता हूं,
चुनाव के लिए खड़ा हूँ भारी मतोंसे हमे जिताए और गाँव का विकास कीजिए।

ग्रामीण आंचल से पधारे समस्त युवाओं का माताओं बहनों का
तहे दिल से…..पार्टी की तरफ से स्वागत करते हैं।

चुनाव से पहले किए गए वादे पूरे हो,
मगर जब वादे पूरे नहीं होते तो लोकतंत्र से जनता का विश्वास उठ जाता है।

केवल सत्ता की कुर्सी पर बैठना ही राजनीतिक लोकतंत्र नहीं होता है।

if you like ” युवा नेता शायरी, चुनावी शायरी, yuva neta shayari, chunav shayari.” please share with your friends on social media.

Leave a Comment